बुधवार, 1 जनवरी 2014

आओ इस नये साल मे


सुख दुख तो जीवन के साथी,
जीना हमें हर हाल मे
खुश रहने का वादा करलें,
आओ इस नये साल मे

क्या पाया क्या खोया हमने,
न उलझें इन सवाल मे
नई उम्मीदों से दामन भरले,
आओ इस नये साल मे

पनीर की कौशिश करें तब तक
काम चलाये दाल मे
आशाओं को दुगना कर लें ,
आओ इस नये साल मे

सुर से सुर मिलायें जीवन के
ताल देकर ताल मे
हर रंग को अपना कर लें ,
आओ इस नये साल मे

सैयाद हर तरफ मिलेंगे
फंसें न इनके जाल में
स्वविवेक से राहें चुनलें
आओ इस नये साल मे
सुरेश राय 'सरल'

चित्र गूगल से साभार

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर रचना ...... नए साल के लिए बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. नववर्ष मंगलमय हो.
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (1 जनवरी, 2014) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  4. आमीन ... नव वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर सृजन, बधाई
    कृपया मेरे ब्लोग पर भी आप जैसे गुणीजनो के मार्गदर्शन अपेक्षित है
    http://tayaljeet-poems.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं